Anjaani Raah



Anjaani raah par kuchh aise kho gaye hai
Apni hi manjil se banchit ho gaye hai
Rasta ek banana hai hajaar nahi 
Manjil ek banani hai do char nahi
Badhna hai age to tap karna seekh lenge 
Lakshya ek rakhenge hajaar nahi
Or ise pane ke liye Sabr se achchha koi aujaar nahi



अनजानी राह पर कुछ ऐसे खो गए हैं 

अपनी ही मंजिल से बंचित हो गए हैं 

रास्ता एक बनाना है हजार नहीं 

मंजिल एक पानी है दो चार नहीं 

बढ़ना है आगे तो तप  करना सीख लेंगे 

 लक्ष्य एक रखेंगे हजार नहीं 

और इसे पाने के लिए सब्र से अच्छा कोई औजार नहीं 


Post a Comment

Please do not enter any spam link in the comment box.

Previous PostNext Post